Loading...
Evangeline Paul Dhinakaran

आप की आयु लम्बी होगी!

Sis. Evangeline Paul Dhinakaran
15 Jun
क्या आपको परमेश्वर के साथ संगति है? क्या आप यह कह सकते हैं कि यह मेरा परमेश्वर है? क्या आप उसे अपने परमेश्वर के रूप में मानते हैं? लूका 20:37 में बाइबल कहती है, ‘‘परन्तु इस बात को कि मरे हुए जी उठते हैं, मूसा ने भी झाडी की कथा में प्रगट की है कि वह प्रभु को अब्राहम, इसहाक और ताकूब परमेश्वर कहता है। परमेश्वर अपनी संतानों को नाम लेकर बुलाता है। वह अब्राहम, इसहाक और याकूब के परमेश्वर की जानकारी रखने के कारण गर्व मानता है। उसने अब्राहम से की गई प्रतिज्ञा को यह कहकर पूरा किया, जो कहता है, ‘‘मैं तुझ से एक बडी जाति बनाऊंगा और मैं तुझे आशीष दूंगा, मैं तेरा नाम महान करूंगा, तू आशीषों का मूल होगा।’’ (उत्पत्ति 12:2) परमेश्वर उनका बना रहता है जिस प्रकार उसके लोग उसके साथ बने रहते हैं। परिणाम स्वरूप जब वे पृथ्वी पर थे उन्हें एक लम्बी आयु के साथ आशीष दी और उसके बाद उन्हें अनन्त जीवन में प्रवेश कराया। आज ही आप परमेश्वर से कहें कि वह जीवितों का परमेश्वर है और वह आपको अपने निकट जीवित रखेगा। 

एक बार एक व्यक्ति था जो पूरी तरह से तनाव में था। वह सडक की किनारे पर खडा एक गाडी की खुली हुई खिडकी से एक व्यक्ति से बातें कर रहा था। उसकी पत्नी उसे छोडकर चली गई थी। उसके कोई नौकरी भी नहीं थी। वह संसार के लिए एक बोझ था, हर दिन उसका बोझ बढता जा रहा था। उसकी बातों से ऐसा लगता था कि वह पूरी तरह से व्यर्थ है। उस गाडी के अंदर बैठे हुए व्यक्ति ने उसे आशा की कुछ बातें की कि वह अपनी उदासी से बाहर निकले परन्तु वह अपनी बातों में दृढ था। इसलिए उसने उसे कुछ आशावाद विचारों से छोडकर चला गया और उसके जीवन में एक नया मोड आया और उसके अंदर एक आशा जगी कि आनन्दित होने के लिए कोई मार्ग है। अचानक वह तनाव व्यक्ति चिल्लाया, ‘‘रूक जाओ!’’ इसलिए गाडी चलाने वाले ने आगे जाकर अचानक एक ब्रेक लगाया क्योंकि एक तेल चलती हुई गाडी उसके पास से निकल गई। उसने उससे कहा, यदि तुम ने मुझे रोका नहीं होता तो अब मैं मर गया होता। कुछ पल पहले तुम तनाव में थे और अब तुम ने मेरी जान बचाई है। अब से जो कुछ मैं भलाई का काम करूं उसमें तुम भी सहभागी होगे। उसका चेहरा खिल उठा, जैसे कि कई महीनों का तनाव और उदासी भाग गई। अंधेरी रातों से गुजरने के बाद एक नई भोर होती है। कोई भी नहीं जानता कि अगले पल क्या होगा परन्तु जब हम यह जानते हैं कि हमारा परमेश्वर जीवित है तो हम समयों के बदलने की एक आशा हमेशा रख सकते हैं।
परमेश्वर आपको सारी बीमारियों और निर्बलताओं से चंगा करेगा और आपको जीवित रखेगा। चाहे आप महसूस करने लगे किं आप जीवन पूरा हो रहा है। परमेश्वर कहता है, ‘‘मैं जीवित हूं, तुम भी जीवित रहोगे।’’ (यूहन्ना 14:19) आज आप जिन परिस्थितियों से गुजर रहे हैं, यीशु पहले से ही गुजर चुका है। वह मृत्यु से गुजरा, गाढा गया और तीसरे दिन जी उठा। आपके जीवन को उलटा पुलटा करने के लिए उसके हाथों में सारा अधिकार दिया गया है। जब आप को परमेश्वर की व्यक्तिगत संगति होगी, तब वह खुद आप से बात करेगा, आपको चलाएगा और लाभकारी कार्यों को सिखाएगा जिससे कि आपकी वर्तमान की स्थिति बदल जाए। डॉक्टर ने आप को शायद आशा दी है परन्तु जो आशा हम परमेश्वर के द्वारा दी गई पर रखते हैं वो यह है कि परमेश्वर जीवित है और हम उसके निकट जीवित रहेंगे। इसलिए आज ही इस प्रतिज्ञा को थामे रहें और इस संसार में एक लम्बी और आशीषित जीवन पर धावा करें। आप का नाम अब्राहम, इसहाक और याकूब की तरह आदर देगा और वह आपका परमेश्वर ठहरेगा।
Prayer:
प्रेमी स्वर्गीय पिता,

खुद को मुझ पर प्रगट करने और मेरा परमेश्वर बनने के लिए चुना है। मैं आपको अपने जीवन से अधिक महत्त्व देती हूं। मेरे जीवन का कारण आप हैं और आपकी प्रतिज्ञाओं के लिए आपको धन्यवाद कि आप मुझे लम्बी आयु से आशीषित करेंगे। मेरे प्रियजन को चंगा करें जो बीमार हैं जिससे कि वे एक लम्बी पाने क आनन्द उठाएं। मेरे अपने परमेश्वर बनने की मदद करें और मेरे जीवन को आशीष दें और मेरे जीवन के द्वारा आपके नाम को ऊंचा करें। यीशु के नाम में, मैं मांगती हूं, आमीन!

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000