Loading...
Evangeline Paul Dhinakaran

परमेश्वर के समय की बांट जोएं!

Sis. Evangeline Paul Dhinakaran
08 Jun
आइए हम अपनी प्रार्थनाओं और जीवनों के द्वारा यीशु और उसकी इच्छा को प्रकाशित करें जिससे कि हमारी सभी विनतियों का उत्तर मिले। हमें विश्वास करना चाहिए कि वह हमारी प्रार्थनाओं का निश्चय उत्तर देगा। कभी कभी उत्तर ‘हां’ में मिलता है या कभी कभी ‘ना’ भी हो सकता है और कभी कभी बांट जोहो, हो सकता है परन्तु निश्चय वह हमारी सभी प्रार्थनाओं का उत्तर देता है। हमारे विश्वास की कमी होने से निश्चय हमारी प्रार्थनाओं में बाधा आती है। (याकूब 1:6) जब हम अकेले परमेश्वर के निकट आते हैं, तब यह वचन हमें आत्मविश्वास के साथ चैन देता है, धर्मी जन की प्रार्थना के प्रभाव से बहुत कुछ हो सकता है। (याकूब 5:16) 

हाल ही में, मैं ने बहन जयलक्षमी की एक गवाही सुनी। वह चेन्नई के हमारे प्रार्थना भवन के पास रहती थी। यह बहन यीशु से बहुत घृणा करती थी, जब कभी भी वह खरीदारी करने या किसी और जगह जाती तो वह प्रार्थना भवन गुजरते समय अपना मुंह फेर देती थी। परन्तु एक दिन, अचानक उसने अपनी छोटी बेटी पर उबलता हुआ तेल गिरा दिया, उसके शरीर पर कपोले निकल पडे। उसे अस्पताल में भर्ती करना पडा और डॉक्टर जो कर सकते थे उन्होंने किया और अब केवल उसकी बेटी को परमेश्वर ही बचा सकते थे। वहां पर एक नर्स ने उसे यीशु बुलाता है प्रार्थना भवन में प्रार्थना कराने के लिए कहा। यह बहन इस बात को सुनकर अचम्भित हो गई। उसने फिर भी प्रार्थना भवन जाने के लिए स्वीकार किया। जब वह प्रार्थना भवन के अंदर गई तो वहां के प्रार्थना योद्धाओं ने उसकी बेटी की चंगाई के लिए आंसुओं के साथ प्रार्थना की। एक बडा चमत्कार हुआ। प्रभु ने न केवल उसके फोडों को चंगा किया परन्तु उसके शरीर से सभी निशानों को भी चंगा किया। वह जोर से चिल्लाई और प्रभु की महिमा की। हां, हम आश्चर्य कर्म करनेवाले परमेश्वर की सेवा करते हैं।
आज उसकी बेटी एक इंजीनियर है। जो बहन प्रार्थना भवन को देखना नहीं चाहती थी आज वह कहती है कि जब कभी भी उसके जीवन में समस्या आती है तो वह प्रार्थना भवन जाती है। इसलिए आज प्रभु ने उसके परिवार को आदर दिया है। 

परमेश्वर स्वप्रेरित, पापियों और अधर्मियों (यशायाह 59:2) घमण्डियों (अय्यूब 35:12) और अवाज्ञाकारियों की प्रार्थनाओं का उत्तर नहीं देता है। उसने आपके लिए पहले से ही प्रतिज्ञाएं कर रखी हैं उसे करने के लिए कहें। उस दिन तक प्रार्थना करते रहें, क्योंकि हम अपने महान प्रतिज्ञा पूरी करनेवाले, आवश्यकताएं पूरी करनेवाले और हमारे राजा को आमने सामने देख न लें। 
Prayer:
स्वर्गीय पिता,

हे प्रभु, आप मेरी प्रार्थनाओं को उपर्युक्त समय में उत्तर देंगे इसके लिए मैं आपको धन्यवाद देती हूं। इस नकारत्मक परिस्थितियों के दौरान भी आप में भरोसा रखने और बांट जोहने में मेरी मदद करें। अंत तक मैं अपने विश्वास में बनी रहूं, इसलिए मेरी मदद करें। आप ही तो सारी बुद्धि और ज्ञान के भण्डार के स्रोत हैं और मेरी प्रार्थनाओं का उत्तर एक सिद्ध रूप से देंगे। यीशु के नाम में, मैं प्रार्थना करती हूं, आमीन!

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000