Loading...
Dr. Paul Dhinakaran

बुद्धि की बातें बोलें!

Dr. Paul Dhinakaran
07 Jun
बाइबल हमें हानिकारक बातों के विरुद्ध चुनौती देता है। ‘‘क्या ही धन्य है वह पुरुष जो दुष्टों की युक्ति पर नहीं चलता, और न पापियों के मार्ग में खडा होता; और न ठट्ठा करनेवालों की मण्डलों में बैठता है परन्तु वह तो यहोवा की व्यवस्था से प्रसन्न रहता; और उसकी व्यवस्था पर रात दिन ध्यान करता रहता है’’(भजन संहिता 1:1,2) जब हम पापियों के मार्ग में चलते और ठट्ठा करने वालों की मण्डली में बैठते हैं उनसे परमेश्वर प्रसन्न न होगा। लोगों को चोट पहुंचाना परमेश्वर को चोट पहुंचाना है। बाइबल कहती है, ‘‘अंतिम दिनों में हंसी ठट्ठा करनेवाले आएंगे तो अपनी ही अभिलाषाओं के अनुसार चलेंगे।’’ (2 पतरस 3:3) हम उन दिनों में हैं जहां पर ठट्ठा करनेवालों की प्रशंसा होती है। इससे परमेश्वर का मन दुखी हो जाता है। ‘‘न निर्लज्जता, न मूढता की बातचीत, न ठट्ठे की क्योंकि ये बातें शोभा नहीं देतीं।’’ (इफिसियों 5:4) परमेश्वर कहता है, ‘‘कोई गंदी बात तुम्हारे मुंह से न निकले, पर आवश्यकता के अनुसार यही निकले जो उन्नति के लिए उत्तम हो, ताकि उससे सुननेवालों पर अनुग्रह हो।’’ (इफिसियों 4:29)

बहुत ही वर्ष पहले न्यूजीलेंड में एक हवाई जहाज की दुर्घटना हुई थी। यह एक ज्वालामुखी पर्वत से टकराया और 257 लोगों की मृत्यु हुई। उस ज्वालामुखी के ऊपर से चुनौती दी गई थी और तीन बार दी गई थी। चौथी बार चुनौती चालकों के ठट्ठों के द्वारा पूरी तरह से घुम हो गई। इसका परिणाम यह हुआ कि जहाज ज्वालामुखी से टकराया और सभी मारे गए। यदि चालक समय पर चुनौती सिगनल सुना होता तो इन सभी निर्दोष यात्रियों के जीवनों को बचा सका होता। हाय! जो चला गया सो चला गया।
हां, मेरे मित्र, अनावश्यक बातें, अनावश्यक वादविवाद और गपशप करना हमारे लिए बहुत ही हानिकारक है। आज अपने आप से इन सवालों को पूछें और जवाब पाएं। क्या आप प्रतिदिन प्रभु के साथ समय बिताते हैं? क्या हम ठट्ठा हंसी मजाक, गपशप में व्यर्थ समय गंवाते हैं या दूसरों के बारे में व्यर्थ बातचीत में शामिल होते हैं? याद रखें, इन व्यर्थ बातों के द्वारा, शैतान आपके जीवनों में निश्चय प्रवेश करेगा। उसके बाद यीशु से पीछे हट जाएंगे, उसके साथ संगति को खो देंगे और उसका यही परिणाम होगा कि आप पाप में जीवन बिताएंगे। इसलिए जब कभी भी आपको समय मिले, प्रभु को खोजने में अपना उपयोगी समय बिताएं और उसकी संगति और अपने परिवार और परमेश्वर के संत लोगों की संगति में बिताएं। यह उत्तम समय आपको निश्चय उन्नत करेगा और आपको एक बेमिसाल व्यक्ति बनाएगा। 
Prayer:
स्वर्गीय पिता,

मैं अनावश्यक बातें, गपशप और अपनी बातों के द्वारा दूसरों की भावनाओं को चोट पहुंचाने से मन फिराता हूं। मेरे अनावश्यक व्यर्थ बातों के लिए मुझे क्षमा करें। मैं प्रार्थना करता हूं कि अपनी पवित्र आत्मा से मुझे भरें और मेरे दोषभरी बातों से मेरे होठों से मेरी रक्षा करें। मेरी बात नमक से स्वाद देकर दूसरों के जीवनों को बनाना है। मेरी जीभ खेदित मनवालों के जीवनों में चंगाई लाए। इस प्रार्थना को मैं यीशु के नाम में, मांगता हूं, आमीन!

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000