Loading...
Dr. Paul Dhinakaran

प्रकाशमान होना!

Dr. Paul Dhinakaran
26 Feb
आज प्रभु अपने कोमल देखभाल के लिए आपको बुलाता है। आपका चाहे कोई भी कष्ट या डर हो, आप केवल उसे ही देखें। भजनकार कहता है, ‘‘जिन्होंने उसकी ओर दृष्टि की उन्होंने ज्योति पाई; और उनका मुंह कभी काला न होने पाया।’’ (भजन संहिता 34:5) जैसे ही आप यीशु की ओर देखेंगे तो धुंध के द्वारा सूर्य चमकेगा और उसकी उपस्थिति में आपकी सभी समस्याएं गायब हो जाएंगी। उसके सामने कुछ भी ठहर न सकेगा जिसने आप से प्रेम किया और आपके लिए मरा है। प्रतीक जैन (बिजनूर,उत्तर प्रदेश) ने बांटा कि उसकी पहाड जैसी समस्याएं कैसे केवल यीशु की ओर देखकर ज्योति में बदल गई:

2002 में, मेरे पिताजी को लकवे का स्ट्रोक हो गया था और वे बहुत ही बुरी दशा में थे, तब मैं स्टूडियो में अपनी इंजीनियरिंग कोर्स को कर रहा था। इसलिए मुझे एक ऐसी स्थिति आ गई कि मुझे अपनी पढाई करने के साथ साथ पेट्रोल बंक कम्पनी को चलाना था क्योंकि उस समय वे इसको चला रहे थे। इस परिस्थिति में, मुझे पता चला कि मेरे पिता जी ने एक गेस्ट हाउस के निर्माण के लिए बहुत सा पैसा लगाया था और मैं कर्ज के भारी बोझ से घबरा गया। इस भयानक स्थिति में, उनलाखों रूपयों को ब्याज के साथ भरना था और मैं ने यह सोचा कि इस गेस्ट हाउस को बेचकर सारा कर्ज चुका दिया जाए। 5 वर्षों के संघर्ष के बाद भी बहुत सी रूकावटें थी और मैं उसे बेच पाने में असमर्थ हुआ। मैं कई लोगों से मिला और उनकी सलाह मांगी परन्तु सब कुछ व्यर्थ हुआ। दूसरी तरफ मेरे पिता जी का स्वास्थ्य अच्छा नहीं था और उन्हें पूरी तरह से छुटकारा नहीं मिला था। इसके कारण मैं अपनी पढाई पर ध्यान देने में असमर्थ था और मैं ने कैसे भी करके इसका नियंत्रण किया। मैं ने एक ट्रेवल एजेंसी शुरु करनी चाही और उस व्यापार से जो मुनाफा होगा उससे अपने व्यापार को बढा सकूंगा। वहां पर भी मैं बुरी तरह से असफल हुआ। 2007 में, एक व्यक्ति ने मुझे यीशु बुलाता है टीवी कार्यक्रम देखने की अगुवाई की। मैं ने जैसे ही उसे पहली बार देखा और यह देखकर चकित था कि कैसे परमेश्वर के वचन का प्राक्रमी रूप से प्रचार होता है और कैसे लोग चमत्कार पाते हैं और अपनी गवाहियों को देते हैं। उसके बाद मैं ने लगातार उन कार्यक्रमों को देखता रहा और मेरे मन में बडी शांति और आशा मिलती थी। मेरे अंदर एक विश्वास जगा कि प्रभु यीशु मेरे लिए भी एक चमत्कार करेंगे। मैं ने डॉ पॉल दिनाकरन को पत्र लिखना शुरु किया और उनके उत्तरों ने मुझे निश्चयता दी कि मेरी समस्याओं को हल मिलेगा। 2007 को मेरे आश्चर्य का कोई ठिकाना नहीं था कि मैं उस जायदाद को एक बडे दाम में बेचने में समर्थ हुआ जो पहले इस तरह से बेच नहीं सका। मेरे सारे कर्ज अदा कर दिए गए और परमेश्वर की आशीष मेरे जीवन में बढती चली गई। 
प्रियजन, दाऊद की तरह जिसने कहा, ‘‘जैसे हरिणी नदी के जल के लिए हांफती है, वैसे ही, हे परमेश्वर मैं तेरे लिए हांफता हूं।’’ (भजन संहिता 42:1) अपनी सारी समस्याओं को उसके प्रेमी हाथों में दे और उसी की ओर ताकें जो आपकी देखभाल करता है। उसका प्रेम अतुलनीय और विशालकाय है कि वह आपके आंसुओं को देखकर मुंह न फेरेगा। शांति का परमेश्वर आपको भी शांति देगा और आपके लिए बडे बडे चमत्कार करेगा। आपको लज्जित होना न पडेगा। आप का मुख अनन्द से चमकेगा।
Prayer:
स्वर्ग में प्रिय पिता,

मैं जानता हूं कि आप मुझे बहुत प्रेम करते हैं। मैं आपको किसी भी समय पुकार सकता हूं। मेरे डर के बावजूद आप सदा मेरे निकट है। आपकी उपस्थिति से पराक्रमी पहाड भी पिघल जाते हैं। मेरी सभी समस्याओं को टुकडे टुकडे कर डालें। मेरे काम दूसरों से अधिक चमके और आपकी महिमा को प्रकाशमान करे। यीशु के नाम में, मैं प्रार्थना करता हूं, आमीन!

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000