Loading...
Evangeline Paul Dhinakaran

धर्मी का फल बनें!

Sis. Evangeline Paul Dhinakaran
28 Sep

प्रिय मित्र, आज प्रभु ने आपके लिए एक अद्भुत प्रतिज्ञा की है। यूहन्ना 15:4 में प्रभु कहता है, ‘‘तुम मुझ में बने रहो, और मैं तुम में। जैसे डाली यदि दाखलता में बनी न रहे तो अपने आप से फल नहीं सकती; वैसे ही तुम भी यदि मुझ में बने ब रहो तो नहीं फल सकते।’’ उसी के अनुसार, प्रभु हमेशा आपके साथ बातचीत और संगति करना चाहता है। वह आपके साथ एक होना चाहता है। यही कारण है कि प्रेरित पौलुस रोमियों 8:35 में साहसपूर्वक घोषणा करता है, हमें मसीह के प्रेम से कौन अलग करेगा? ऐसा मसीह का प्रेम है और इस संसार की कोई भी चीज हमें परमेश्वर के प्रेम से अलग नहीं कर सकती।

बाइबिल में, हमें पता चलता है कि प्रभु यीशु कई बार मरियम और मार्था के घर गए थे। मार्था हमेशा मेहमानों की देखभाल करने और सभी के लिए भोजन तैयार करने में व्यस्त रहती थी। लेकिन मरियम यीशु के चरणों में बैठ जाती थी और परमेश्वर की उपस्थिति और उसकी शिक्षाओं को आत्मसात कर लिया करती थी। इसलिए यीशु ने मार्था से कहा, मरियम ने उस उत्तम भाग को चुन लिया है। प्रिय मित्र, यीशु ही आपके लिए एकमात्र रास्ता है। जब आप उसमें बने रहेंगे तो आप धार्मिकता के फल उत्पन्न करेंगे। तदनुसार, मैं सबसे अधिक कामना और प्रार्थना करता हूं कि प्रभु आपको पवित्र और अधिक धर्मी बनाएं।

यूहन्ना 15:7 में हम देखते हैं कि प्रभु अपने साथ एक होने के महत्व को दोहराता है जब वह कहता है, ‘‘यदि तुम मुझ में बने रहोगे और मेरे वचन तुम में बने रहेंगे, तो जो चाहो मांगो, और वह तुम्हारे लिए हो जाएगा।’’ यह वह जीवन है जो परमेश्वर आपको धार्मिकता के फल उत्पन्न करने में मदद करके देना चाहता है। इसलिए, मेरे दोस्त, परमेश्वर के साथ जुड़ना इतना आसान है। इसलिए अपने शत्रुओं से मत डरें। बस विश्वास में यह कहते हुए घोषणा करें कि प्रभु आपके पक्ष में है और आप डरेंगे नहीं। मनुष्य आपका क्या कर सकता है? मेरे मित्र, आज प्रभु का धन्य हाथ आप पर आएगा। आप धर्म के फल देने वाले फलदार वृक्ष बनेंगे! आप प्रार्थना में परमेश्वर से जो कुछ भी मांगेंगे, वह आपको दिया जाएगा। इसलिए आनन्दित हो जाएं।

Prayer:

प्रिय प्रभु यीशु, आपके वचन के द्वारा मुझसे बात करने के लिए मैं आपको धन्यवाद देती हूँ। हे प्रभु, मैं केवल आप से लिपटी हुई हू्ं। आप मेरी एकमात्र आशा हैं। कोई भी मुझे कभी भी आपके जैसा प्यार नहीं कर सकता, प्रभु यीशु। हे प्रभु, मेरे हृदय को अपने प्रेम से भर दें। हे प्रभु, मैं आपके साथ एक मजबूत संबंध बनाना चाहती हू्ं। मैं आप में रहना चाहती हूं और आपके साथ एक होना चाहती हू्ं। हे प्रभु, मुझे एक फल देने वाला वृक्ष बनने में मदद करें, जो आपकी महिमा के लिए धार्मिकता के फल देता है। इस दुनिया की कोई भी चीज़ मुझे आप से प्यार से अलग न करे, प्रभु । मेरा हाथ कस कर पकड़ लें और मुझे आशीर्वाद दें, प्रभु। सभी पुरानी बातों को जाने दें। मेरे विरुद्ध काम करने वाली अंधकार की सभी शक्तियों को यीशु के नाम से चकनाचूर कर दें। मुझे छुड़ाएं प्रभु और मुझे अपनी धार्मिकता से भर दें। हे प्रभु, मेरा हाथ पकड़ने और मुझे फल देने वाले वृक्ष में बदलने के लिए धन्यवाद। मैं दूसरों के लिए आशीर्वाद का माध्यम बनना चाहती हू्ं। हे प्रभु, मेरे जीवन का निर्माण करें और मेरा उपयोग करें। यीशु के नाम में, मैं प्रार्थना करती हूँ। आमीन!

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000