Loading...
Evangeline Paul Dhinakaran

अद्भुत चमत्कार!

Sis. Evangeline Paul Dhinakaran
25 Sep
प्रिय मित्र, आज परमेश्वर आपको भजन संहिता 40:5 के अनुसार आशीष देगा। यह वचन कहता है, ‘‘हे मेरे परमेश्वर यहोवा, तू ने बहुत से काम किए हैं। जो आश्चर्यकर्म और कल्पनाएं तू हमारे लिए करता है वह बहुत सी हैं; तेरे तुल्य कोई नहीं! मैं तो चाहता हूं कि खोलकर उनकी चर्चा करूं, परन्तु उनकी गिनती नहीं हो सकती।’’ मुझे यह वचन बहुत ही पसंद है। प्रभु ने मेरे जीवन में कई आश्‍चर्यकर्म किए हैं और मेरे जीवन में परमेश्वर के सभी कार्यों का विवरण करने के लिए कोई शब्द नहीं है। मैं उन्हें खुद परमेश्वर को भी नहीं समझा सकती। मैं प्रार्थना करती हूं कि परमेश्‍वर आपके जीवन में भी ऐसे ही आश्चर्यकर्म करे।
 
प्रभु ने वास्तव में ठीक इसी प्रकार की आशीषें दाऊद को दी थी। भजन संहिता 40:17 में दाऊद कहता है, ‘‘मैं तो दीन और दरिद्र हूं, तौभी प्रभु मेरी चिंता करता है। तू मेरा सहायक और छुडानेवाला है; हे मेरे परमेश्वर विलम्ब न कर।’’ मेरी शादी के दिन, मेरी मां ने यही वचन कहे थे। मेरे जीवन में आशीषों को देखकर वे रो पडीं और उन्होंने कहा, ‘‘हे प्रभु, मैं दीन और दरिद्र हूं परन्तु आप मेरी चिंता करते हैं। आप ने मेरी बेटी को किस तरह से आशीषित किया है यह मैं देख सकती हूं।’’
मित्र, आप भी चमत्कारों को घोषित करने जा रहे हैं जो प्रभु आपके जीवन में करनेवाला है। अभी तक आपने निरंतर प्रार्थना की होगा और उसे लगातार पुकारा होगा परन्तु आपके जीवन में अच्छे दिन आनेवाले हैं। परमेश्वर आपकी चिंता करता है और आपकी विनती और समझ से अधिक आपको बहुतायत और अपरम्पार की आशीष देगा जो उसने आपके लिए रख छोडी हैं।
Prayer:
मेरे प्रेमी स्वर्गीय पिता,

आज की प्रतिज्ञा के लिए आपको धन्यवाद। आप मेरी चिंता करते हैं, और मेरे जीवन में कई आश्चर्यकर्म करेंगे इसलिए प्रभु मैं आपको धन्यवाद देती हूं। हे प्रभु, जो मैं ने खोया है उसे सब कुछ मुझे पुन: दें। यीशु के नाम में,

मैं प्रार्थना करती हूं, आमीन!
 

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000