Loading...
Dr. Paul Dhinakaran

बाट जोहना उचित होगा!

Dr. Paul Dhinakaran
10 Sep
बाइबल में हम रूत के बारे में पढते हैं कि जब उसने अपने पति को खोया, वह अपने मायके जाने के बजाए अपनी सास के साथ लिपटी रही। उसने नाओमी के जीवित परमेश्वर से कहा, ‘‘तेरा परमेश्वर मेरा परमेश्वर।’’ रूत अपने माता पिता के पास जाकर एक नया जीवन व्यतीत कर सकती थी, परन्तु रूत ने सास के साथ रहने को चुना और प्रभु को उसके जीवन में कार्य करने के लिए धीरज से बाट जोहती रही। उसके बाद क्या हुआ? बोआज की आशीष रूत पर आई। उसने यह कहकर उसे आशीष दी, यहोवा तेरे कार्य का फल दे, और इस्राएल का परमेश्वर यहोवा जिसके पंखों तले तू शरण लेने आई है तुझे पूरा बदला दे। उसके बाद बोआज ने उससे विवाह किया और उसका टूटा परिवार पुन: स्थापित हुआ। हमारे प्रभु यीशु मसीह की वंशावली में उसका नाम रिकार्ड किया गया है, यह क्या ही महान आशीष है। क्या ही एक आशीषित जीवन है!

जैसे कि हम सब जानते हैं कि यह एक मैक्रोवेव पीढी है-लोग तुरंत चीजें चाहते हैं, तत्कालिक कॉफी, शीघ्र खाना आदि। आज के वर्तमान काल में हर चीजों में शीघ्रता पाई जाती है इसलिए हम अपेक्षा करते हैं कि परमेश्वर भी तत्कालिन करे परन्तु मेरे प्रिय मित्र, वह धीरज का परमेश्वर है। वह उचित समय में सही कार्य करता है। हम ने देखा कि रूत ने कैसे धीरजता से अपनी आशीषें पाई। आज मैं आप से आग्रह करता हूं कि प्रभु की बाट धीरज से जोहें। वह आपके जीवन में आश्चर्यकर्म करेगा। वह आपकी कल्पना से बाहर कार्य करेगा। अब जो ऐसा सामर्थी है कि हमारी विनती और समझ से कहीं अधिक काम कर सकता है उस सामर्थ के अनुसार जो हम में कार्य करता है।’’ (इफिसियों 3:20) उसने सब कुछ अपने अपने समय पर सुंदर बनाया है(सभोपदेशक 3:11) परमेश्वर ने हर चीज के लिए एक समय बना कर रखा है। सही समय पर जब वह में आशीष देता है जिसकी हमें उचित समय में जरूरत होती है। 
नए नियम में भी हम काना में यीशु को देखते हैं। जब वह विवाह पर था तब दाखरस खत्म हो गया। इसलिए यीशु की मां ने जब यीशु से कहा कि वह चमत्कार करे, तब यीशु ने कहा, ‘‘मेरा समय नहीं आया है।’’ परन्तु उसके समय पर उसने पानी को दाखरस में बदला और लोगों को आश्चर्य हुआ कि दुल्हे ने अंत में उत्तम दाखरस दिया है। कमी एक गवाही में बदल गई। इसी तरह से तो परमेश्वर सही समय पर उचित कार्य करता है। हम यह भी देखते हैं कि लाजर के मरे हुए को दफनाने के चार दिनों के बाद उसे जीवित उठाकर एक चमत्कार किया। जब सब लोगों ने सोचा कि अब देर हो चुकी है, यीशु ने परमेश्वर के नाम की महिमा करने के लिए सही समय उसे जिलाया। कभी कभी परमेश्वर आशीष देने में देरी करता है जिससे कि जब हम उसे पाएं तो हर आंख यह देखें कि इसे केवल प्रभु ने ही किया है। आपका चमत्कार मार्ग में है। परमेश्वर को थामे रहें। 
Prayer:
प्रभु परमेश्वर,

आप धीरज के परमेश्वर हैं जो सही समय पर बडे बडे काम करते हैं। हे प्रभु, मैं प्रार्थना करता हूं कि ऐसा धीरज मुझे भी दें। रूत और अन्य लोगों के जैसे कि उन्होंने धीरज से आपकी आशीष पाने की बाट जोही वैसे ही मैं भी आपकी बाट जोहूं। मैं विश्वास करता हूं कि उचित समय पर आप मेरे लिए सब से उत्तम करेंगे, यीशु के नाम में आमीन!

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000