Loading...
Paul Dhinakaran

परमेश्वर आपकी ज्योति!

Dr. Paul Dhinakaran
12 Jun
मेरे मित्र, आज की प्रतिज्ञा का वचन भजन संहिता 112:4 से हमें दिया गया है। यह वचन कहता है, ‘‘सीधे लोगों के लिए अंधकार के बीच में ज्योति उदय होती है।’’ इस्राएली लोगों ने मिस्र देश से परमेश्वर के द्वारा अगुवाई पाई। जब वे लाल सागर पहुंचे अचानक उन्होंने देखा कि फिरौन के सेना उनका पीछा कर रही थी कि वे उन्हें मार डाले। निर्गमन 14:19 में बाइबल कहती है कि ‘‘तुरंत बादल का खम्भा उनके आगे से हटकर उनके पीछे जा ठहरा कि उन्हें सुरक्षा मिले। ’’यह इस्राएलियों को मिस्रियों से अलग हो सके जो उन्हें मार डालने के लिए आया था। यह बादल का खम्भा जो मिस्रियों के लिए अंधकार था परन्तु इस्राएलियों के लिए यह बादल का खम्भा उनके लिए ज्योति था जो उन्हें आगे चलने का रास्ता दिखाया।
 
क्या आप जानते हैं कि यह बादल का खम्भा कौन है? यह और कोई नहीं परन्तु यीशु था! यूहन्ना 8:12 में हम इसके बारे में पढते हैं। पवित्रशास्त्र कहता है, यीशु ने कहा, ‘‘जगत की ज्योति मैं हूं। यदि जो कोई भी मेरे पीछे चलेगा अंधकार में न चलेगा परन्तु जीवन की ज्योति पाएगा।’’ यशायाह 42:16 कहता में परमेश्वर कहता है,‘‘मैं अंधों को एक मार्ग से ले चलूंगा जिसे वे नहीं जानते और उनको ऐसे पथों से चलाऊंगा जिन्हें वे नहीं जानते। उनके आगे मैं अंधियारे को उजियाला करूंगा और टेढे मार्गों को सीधा करूंगा। मैं ऐसे ऐसे काम करूंगा और उनको न त्यागूंगा।’’
बाइबल फिर से यशायाह 60:2 में कहती है, ‘‘देख, पृथ्वी पर तो अंधियारा और राज्य राज्य के लोगों पर घोर अंधकार छाया हुआ है;’’ क्या आपको ऐसा नहीं लगता कि यह हमारी वर्तमान स्थिति ऐसी ही है जो हमें इस पेनडमिक के दौरान हुई है? हालांकि इस वचन के अंत में परमेश्वर एक निश्चयता के साथ कहता है, परन्तु तेरे ऊपर यहोवा का उदय होगा, और उसका तेज तुझ पर प्रगट होगा। हां, मेरे मित्र, आपकी स्थिति चाहे कैसी भी अंधकारमय हो, परन्तु परमेश्वर आप पर अपनी ज्योति चमकाएगा और उसकी महिमा आप पर प्रगट होगी। इसलिए उठकर प्रकाशमान हो, क्योंकि तेरा प्रकाश आ गया है।
Prayer:
मेरे प्रेमी स्वर्गीय पिता,

आज की प्रतिज्ञा वचन के लिए आपको धन्यवाद। हे प्रभु मेरे चारों ओर की परिस्थितियों को आप जानते हैं। मैं आपको मेरी ज्योति होने के लिए मांगता हूं और आज ही हर अंधकार को ज्योति में बदल डालें। यीशु के नाम में,

मैं प्रार्थना करता हूं, आमीन!
 

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000