Loading...
Evangeline Paul Dhinakaran

सब से प्रथम परमेश्वर!

Sis. Evangeline Paul Dhinakaran
24 Feb
परमेश्वर की धार्मिकता को खोजने की ओर कोई भी लिया गया यत्न न केवल आत्मिकता उन्नति देगा बल्कि आपके जीवन में परमेश्वर की योजना को पूरा करने में आपको ऊंचा करेगा। बाइबल कहती है कि यीशु ही तुम्हारी धार्मिकता है। (1 कुरिन्थियों 1:30)यदि परमेश्वर को आप उसके वचन को मनन करने, विश्वास से प्रार्थना करने के द्वारा आपके जीवन के हर बात में प्राथमिकता देंगे, तो आप जो कुछ भी करेंगे वह उसमें उन्नत करेगा। (भजन संहिता 1:2,3) यिर्मयाह कहती है कि धन्य है वह पुरुष जो यहोवा पर भरोसा रखता है, जिसने परमेश्वर को अपना आधार माना हो। यहां पर हम (भारत) के झारखण्ड,रांची से डॉ नीलिमा हर्नाज की गवाही को प्रस्तुत करते हैं, वह अपने अनुभव को बांटती हैं कि उसने परमेश्वर को प्राथमिकता देकर बहुतायत की आशीष पाई: 

मुझे यीशु बुलाता है भिलाई प्रार्थना महोत्सव में भाग लेने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। बहन इवेंजिलिन पॉल दिनाकरन जब प्रार्थना कर रही थी और सभी को पवित्र आत्मा की भरपूरी पाने में अगुवाई कर रही थी। उस समय मैं ने पहली बार पवित्र आत्मा पाई। मैं ने एक ठंडी हवा का अनुभव किया और अन्य भाषाओं में बोलने लगी। उस दिन से मेरा जीवन बदल गया। परमेश्वर के अनुग्रह से मैं रांची के यीशु बुलाता है प्रार्थना भवन में एक स्वसेवी प्रार्थना योद्धा के रूप में सेवा कर रही हूं। उसके साथ साथ मैं ने एस्तेर प्रार्थना समूह को शुरु किया है और मैं अपनी सेवकाई यीशु बुलाता है के राजदूत के रूप में कर रही हूं। मेरी दोनों बेटियों को कारुण्या में पढने का सौभाग्य मिला। हमारा कोई एक मकान न होने के कारण बहुत ही संघर्ष कर रहे थे। इस परिस्थिति में, मैं बैतहसदा प्रार्थना भवन (कारुण्या, कोईम्बटूर) गई और वहां पर प्रार्थना कराई। उसी दिन मेरे पति के दफ्तर से भिलाई में हमें यानि नौकरी करनेवालों को रहने के लिए क्वाटर्स दिया जिसको प्रभु ने हमारे लिए तैयार किया था। हम अतुलनीय आनन्द से भर गए। उसके बाद मैं ने कॉलेज से उत्तम शिक्षक अवार्ड को पाया जहां पर मैं काम करती हूं। इसलिए मैं विभाग की मुख्य बन गई और उसके बाद उस कॉलेज की डीन की पदोन्नति पाई। प्रभु ने मुझे कॉलेज के विद्यार्थियों और शिक्षकों के लिए प्रार्थना करने का मौका दिया है। इस प्रकार प्रभु ने हमारे परिवार को एक विशाल रूप से आशीष दी है। हम प्रभु को धन्यवाद देते हैं। 
प्रियजन, सब से पहले परमेश्वर के राज्य और उसकी धार्मिकता को खोजे तो उसके साथ आपको और सभी आशीषें भी दी जाएंगी। (मत्ती 6:33) जब तक आप परमेश्वर को सब से प्रथम स्थान न देंगे तब तक आप उसकी आज्ञकारिता का पूरा प्रतिफल कभी भी जानने न पाएंगे। आशा की उसकी प्रतिज्ञा यह है, धन और प्रतिष्ठा मेरे पास है,वरन ठहरनेवाला धन और धर्म भी है। (नीतिवचन 8:18) इसलिए आपको उत्तमता का मुकुट देगा। जरा अपने जीवन को जांचे कि क्या परमेश्वर आपके जीवन और अपके परिवार में राज्य करता है। उसके पास आएं जहां पर सभी आशीषें रखी हुई हैं।
Prayer:
प्रिय पिता,

मेरे जीवन का नियंत्रण करें। मैं ने और मेरे परिवार ने आपको पूरे यत्न से खोजने को चुन लिया है। मेरी मदद करें कि मैं आपके अविनाशी वचनों पर मन लगाऊं। हमें आपके मार्ग में अगुवाई करें। हमें लाभदायक मार्गों पर चलाएं। मुझे और मेरे परिवार को दूसरों के लिए आशीष बनाएं । यीशु के नाम, मैं प्रार्थना करती हूं, आमीन!

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000