Loading...

परमेश्वर का चुना हुआ

Shilpa Dhinakaran
04 Dec
संयुक्त राष्ट्र अमेरिका के अटलांटा से जेमी ग्रेस नाम की एक प्रतिष्ठित सुसमाचारक गायिका थी। वह एक मसीही परिवार में बढी हुई थी। उनका घर हमेशा संगीत से भरा हुआ होता था। जेमी ने अपने बचपन से ही कई विभिन्न संगीत वाद्य बजाना सीखा और परमेश्वर की महिमा के लिए गीत गाया करती थी। जब जेमी 11 वर्ष की हुई तब उसे टौरेट सिंड्रोम नामक एक परिस्थिति आ गई जिससे वह ऐंठ गई और उसके हाथों में और उसके पूरे शरीर में अनियंत्रित हलचल पैदा हो गई। उस स्थिति में, उसके लिए वाद्य चलाना और परमेश्वर की आराधना करना बहुत ही कठिन हो गया था। इसका परिणाम जेमी का हृदय टूट गया और जब उसने जाना कि इस बीमारी का कोई इलाज नहीं है तो उसके अंदर एक सवाल उत्पन्न हो गया कि परमेश्वर उससे सचमुच प्रेम करते हैं परन्तु जेमी ने परमेश्वर की महिमा के लिए अपनी योग्यता का उपयोग करना नहीं छोडा। उसकी कठिनाइयों के बावजूद उसने परमेश्वर को गाना और आराधना करना नहीं बंद किया। वह अधिक फल ले आई और कई लोगों के लिए एक आशीष थी। परमेश्वर ने उसकी सभी कोशिशों को आशीष दिया और उसे ऊंचे स्थानों पर उठाया।
करते हो- लीयो बसकेग्लिया’’ जब आप परमेश्वर की महिमा के लिए अपनी योग्यताओं का उपयोग करते हैं, तो वह आपको उसका प्रतिफल देगा। हां, कभी कभी शुरु में यह कठिन लगता है परन्तु खुद प्रभु आपको बल देगा और आपको उत्तम करने में मदद करेगा। बाइबल कहती है, ‘‘जो मुझ में बना रहता है और मैं उसमेंवह बहुत फल फलता है क्योंकि मुझ से अलग होकर तुम कुछ भी नहीं कर सकते।’’ (यूहन्ना 15:5) हम यशायाह 41:9एवं 10 में यह भी पढते हैं ‘‘प्रभु ने आपको पृथ्वी के दूर दूर देशों से लिया और पृथ्वी की छोर से बुलाकर यह कहा है। प्रभु खुद आपको बल देगा और आपको अपने धर्ममय दाहिने हाथ से सम्भाले रहेगा।’’ प्रभु खुद आपकी चिंता करेगा और आपको आशीष देगा।
Prayer:
प्रभु यीशु,

मुझे अद्भुत प्रतिभाओं से आशीषित करने के लिए मैं आपको धन्यवाद करता हूं। मुझे एक फलवंत वृक्ष बनाएं। मुझे उसे आपकी महिमा के उपयोग करने में मेरी मदद करें। मुझे इसे इस्तेमाल करने और हर तरह से लोगों को स्पर्श करने में मेरी मदद करें। मुझे दूसरों की आशीष का एक माध्यम बनने की जरूरत है। मुझे एक बार फिर आशीष देने के लिए आपको धन्यवाद। यीशु के नाम में, मैं प्रार्थना करता हूं, आमीन!

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000