Loading...
Dr. Paul Dhinakaran

बडे कार्यों की अपेक्षा करें!

Dr. Paul Dhinakaran
03 Sep
हम पढते हैं कि लोग परमेश्वर को कार्यों को देखकर भयभीत हो जाते थे। ‘‘यहोशू के जीवनभर, और उन वृद्ध लोगों के जीवनभर जो यहोशू के मरने के बाद जीवित रहे और देख चुके थे कि यहोवा ने इस्राएल के लिए कैसे कैसे बडे काम किए हैं, इस्राएली लोग यहोवा की सेवा करते रहे।’’ (न्यायियों 2:7) पुराने नियम में, परमेश्वर के कार्य सभी लोग देखते थे। परमेश्वर इस्राएलियों को मिस्रियों से छुडाने के लिए महामारियां लाया। उसने इस्राएलियों के लिए लाल सागर अलग किया जिससे कि वे सूखी भूमि में चल सकें। परमेश्वर ने मिस्रियों को डूबो दिया क्योंकि वे भी सूखी भूमि पर चलना चाहते थे जिससे कि मिस्री जो उन्हें डराते थे वे कोई भी नजर न आए। परमेश्वर उन्हें विजय पर विजय दी। परमेश्वर ने यरीहो दीवार को गिराया। परमेश्वर ने यरदन नदी को दो भागों में बांटा जिससे कि इस्राएली उसमें से पार हो सके। परमेश्वर ने उन्हें दिन को बादल के खम्भे और रात को आग के खम्भे से चलाया। ये सभी प्रभु के पराक्रमी कामों को देखकर लोगों ने अपने अपने जीवन में प्रभु पर भरोसा रखा। हां, जब परमेश्वर पराक्रमी कार्यों को करता है, हम उनमें उसकी महानता को देखते हैं और हम भयभक्ति के साथ उसकी आराधना करते हैं। 

एक बार मैं ने सिकंदर महान राजा के बारे में पढा जो कई राज्यों से युद्ध करता आया। जब कभी भी वह युद्ध करता, वह उस शहर के प्रधान से कहता कि वे उसकी  मूर्त्ति को वहां पर स्थापित करे और वो शहर के बीचोंबीच में रखे। एक बार वह उन शहरों में यह देखने गया कि सचमुच उन्होंने उस की मूर्त्ति को स्थिर किया है कि नहीं। जैसे ही वह एक शहर से दूसरे शहर गया वहां पर शहर के बीचोंबीच अपनी मूर्त्ति को खडी देखकर बहुत ही आनन्दित हुआ परन्तु एक विशेष शहर में उसकी मूर्त्ति न होने के कारण वह क्रोध से भडक उठा। तुरंत उसने उस शहर के सभी वृद्धों को बुलाया और उन पर चिल्लाया, ‘‘मेरी मूर्त्ति कहां है? उसे यहां पर क्यों स्थापित नहीं किया गया है?’’ उन्होंने धीरज से उत्तर दिया, ‘‘श्रीमान्, कृपया एक मौका दें!’’ उसके बाद उन्होंने सिंकदर नाम को जोर से पुकारा। तुरंत एक लडकों का समूह उस शहर के बीचोंबीच जमा होकर खडे हो गए। । और वृद्धों ने सिंकदर बादशाह से कहा, ‘‘श्रीमान्, हम ने आपकी मूर्त्ति नहीं बनाई है परन्तु हम ने अपने अपने हर बेटों के नाम सिंकदर रख दिया है कि वे एक जीवित ख्याति बनी रहे।’’ सिकंदर बादशाह एक महान राजा कहलाया गया क्योंकि उसने बडी बडी विजय पाई थी और लोग उससे प्रेम करते थे। 
परमेश्वर ही ने उसे महान बनाया और परमेश्वर आज भी आपके लिए बडे बडे कार्य कर सकता है। नए नियम में, परमेश्वर ने यीशु के द्वारा अद्भुत काम किए। समुद्र को दो भागों में बांटने या दीवारों को ढाने की तरह यीशु लोगों को चंगा करता, छुडाता और आशीष देता गया। परमेश्वर का महान कार्य यीशु के द्वारा आत्माओं का उद्धार पाना है। यीशु क्रूस पर मरा और उसने हमारे छुटकारे का मोल अदा किया। हम पढते हैं कि प्रेम सब से ऊपर महान है। ‘‘पर अब विश्वास, आशा, प्रेम ये तीनों स्थायी है, पर इन में सब से बडा प्रेम है।’’ (1 कुरिन्थियों 13:13) संसार ने सब से अधिक यीशु के प्रेम को कभी नहीं देखा। ‘‘इससे बडा प्रेम किसी का नहीं कि कोई अपने मित्रों के लिए अपना प्राण दे।’’ (यूहन्ना 15:13) आपके लिए परमेश्वर का प्रेम महान है क्योंकि उसने आपके लिए अपने प्राण को दिया; क्या वह और सब आपको न देगा और आपके लिए क्या वह बडे बडे कार्य न करेगा? वह आपके लिए निश्चय अद्भुत काम करेगा जिससे कि आप अपने जीवनभर उसके नाम पर भरोसा रखें। 
Prayer:
प्रेमी प्रभु,

इस आशीष के वचन के द्वारा मुझ से बातें करने के लिए आपको धन्यवाद।जैसे आपने अपने लोगों के लिए पराक्रमी कार्य किए हैं उसी तरह से मेरे लिए भी बडे बडे कार्य करें। आपकी ओर से एक वचन मेरी परिस्थिति को बदल डालेंगे और मुझे महान करेंगे। मेरे जीवन में आपके आश्चर्यकर्मों के द्वारा आपके नाम की बडी सराहना हो। ये प्रार्थना मैं यीशु के नाम में, करता हूं, आमीन!

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000