Loading...
DGS Dhinakaran

परमेश्वर की संतानों का स्वर्गीय अधिकार

Bro. D.G.S Dhinakaran
16 Oct
हम बाइबल मे पढ़ते है की, यीशु मसीह ने सरल भाषा मे संदेश प्रचार किया ताकि उनके चेलों को समझ मे आए की वे क्या सीखा रहे है। उपर दिए गए वचन मे, उन लोगो की ओर इशारा किया गया है जो अपने ही मार्ग पर ज़िद के साथ अड़े रहते है। यह खोलने और बाँधने का  सिद्धांत ऐसे लोगो के संदर्भ मे उपयोग दिया गया है। ऐसे लोग परमेश्वर की  आज्ञाओ की अवहेलना करते है। ऐसी स्थिति मे, यीशु मसीह ने सलाह दी की उस व्यक्ति को उसकी ग़लतियों से अवगत कराया जाए ताकि वह परमेश्वर से क्षमा माँग सके। परमेश्वर के लोगो को यह अधिकार दिया गया है की वे अंधकार की शक्तियों को बाँधे  और परमेश्वर की आशीषो की घोषणा करे।

एक बार, दक्षिण कोरिया मे प्रभु के एक महान सेवक थे जिनका नाम पॉल योंग्गी चो था। उन्होने अपनी एक प्रार्थनासभा मे यह बताया की एक बार देश मे चुनाव का समय  निकट था। देश के  राष्ट्रपति चुनाव को लेकर बहुत चिंतित थे।  राष्ट्रपति ने उन्हे कॉल किया और उनसे कहा "चुनाव का समय निकट है और मुझे समझ नही आ रहा है की मैं चुनाव कैसे करवाऊ? कोई भी नियम और क़ानून को नही मान रहा है और चारो तरफ दंगे और तानव का माहौल है।" यह सुनकर पॉल योंग्गी चो ने उत्तर दिया "श्रीमान, मैं इस बारे मे कुछ करूँगा, आप चिंता ना करे।" तब एक रविवार वे दस लाख लोगों के साथ नगर के हर रास्ते हर गली-कूचों मे प्रार्थना करते हुए और अंधकार की शक्तियों को बाँधते हुए घूमे। इसके बाद चारों तरफ शांति छा गयी और चुनाव प्रक्रिया शांतिपूर्ण रीति से संपन्न हुई।
जीवन का वचन

इसी प्रकार, जब आप उन अंधकार की शक्तियों को बाँध देते है जो आपको परेशान कर रही है। तब आपके जीवन मे शांति और खुशहाली आएगी। यीशु मसीह ने हमें सांपों और बिच्छुओं को पैरों तले रौंदने का अधिकार दिया है। (लूका 10:19) आज, यदि आप परमेश्वर की संतान होते हुए भी संघर्ष कर रहे है और परेशानियों का सामना कर रहे है तो यह समय है की आप उस शक्ति का प्रयोग पूरे अधिकार के साथ यीशु मसीह के नाम मे करे। कभी-कभी, परमेश्वर यह चाहते है की उनके बच्चे अपनी बुरी परिस्थिति के लिए ना रोए पर उस परिस्थिति को यीशु मसीह के नाम से झिड़के। जैसे मूसा और इस्राएलियों ने कठिन परिस्थिति का सामना किया था: उनके सामने लाल समुद्र था और पीछे मिश्री सेना, जो उनकी शत्रु थी। परमेश्वर ने मूसा से कहा " तू क्यों मेरी दोहाई दे रहा है? इस्राएलियों को आज्ञा दे कि यहां से कूच करें। और तू अपनी लाठी उठा कर अपना हाथ समुद्र के ऊपर बढ़ा, और वह दो भाग हो जाएगा; तब इस्राएली समुद्र के बीच हो कर स्थल ही स्थल पर चले जाएंगे। (निर्गमन 14:15,16)
Prayer:
सर्वशक्तिमान परमेश्वर, मैं आपको महिमा देता/ देती हूँ और आपको सराहता/ सराहती हूँ। आपसे बड़ा कोई भी नही है और आपकी शक्ति के तुल्य और कोई नही है। आज मैं, उन सारी अंधकार की शक्तियों को यीशु मसीह के नाम मे बाँधता/ बाँधती हूँ जो मुझे, मेरे परिवार, मेरे प्रियजनो और परमेश्वर की संतानों के विरोध मे काम कर रही है। प्रभु की स्वर्गीय शांति और आनंद हमारे जीवन मे  प्रबल रूप से काम करे।

यीशु मसीह के नाम से मैं यह प्रार्थना माँगता/ माँगती हूँ। आमीन।

1800 425 7755 / 044-33 999 000