Loading...
DGS Dhinakaran

अपने परिवार की देखभाल करना

Bro. D.G.S Dhinakaran
06 Dec
यह हर एक कमानेवाले का कर्तव्य है कि वह हर एक परिवार के सदस्य जैसे उसकी पत्नी और बच्चे को जो केवल उस पर निर्भर रहते हैं उनके भविष्य के लिए अत्यधिक प्रदान करे जिससे कि वे अनुचित समय में किसी भी कमी के बिना जीवन बिता सकें। ‘‘यदि कोई अपने घर ही का प्रबंध करना न जानता हो, तो परमेश्वर की कलीसिया की रखवाली कैसे करेगा?’’ (1 तीमुथियुस 3:5) परमेश्वर से बडे बडे कार्यों की अपेक्षा करने के लिए हमें छोटे कार्यों में ईमानदार होने की जरूरत है। 

कुछ भक्त पालकों ने अपनी आर्थिकता को संतुलन न रखने के कारण मरे हुओं जैसे हो गए। उन्होंने भविष्य के बारे में सोचे बिना, सब कुछ खर्च कर दिया। उन्होंने बडों की भी सलाह पर कान नहीं लगाया। हाय! अचानक, वे बहुत ही कर्ज के बोझ से दब गए और इस जुए के नीचे उनके बच्चे भी कष्ट उठाने लगे। वे बच्चे असहाय स्थिति में थे और अपने परेशान मन की स्थिति में दुख का जीवन बिताने लगे। बाइबल में हम नाओमी के बारे में पढते हैंजिसने अपनी बहू रूत से कहा, ‘‘हे मेरी बेटी, क्या मैं तेरे लिए ठांव न ढूंढूं कि तेरा भला हो।’’(रूत 3:1)जैसे कि उसने कहा, उसने यहोवा की बुद्धि से रूत के जीवन को फिर से बसाया। उसी तरह से यह हमारा प्रथम कर्तव्य है कि हम अपने आश्रित लोगों की भलाई को खोजें।
यह एक विवेकपूर्णता और बुद्धिमान की आगे की भविष्य की दूर दर्शिता का कार्य है कि वे कैसे अपने व्यापार के कार्यों या दूसरे व्यवसायी संबंधी कार्यों में हानि या कोई कठिनाइयों का सामना करना पडे, ‘‘तो अपने को धर्मी न बना, और न अपने को अधिक बुद्धिमान बना, तू क्यों अपने ही नाश का कारण हो?’’ (सभोपदेशक 7:16) आप अपनी हर योजना और इच्छा को प्रभु के हाथों में समर्पित करें। हर कार्य में उसकी बुद्धि और प्रकाश को खोजें। हर बात में परमेश्वर के वचन को आप में और आपके लिए काम करने की अनुमति दें। इससे आपकी नांव सुरक्षित तैरेगी। 
Prayer:
प्रिय पिता,

मुझे एक परिवार को देने के लिए मैं आपको धन्यवाद करता हूं। मैं अपने परिवार में हर सदस्य को आशीष देता हूं। मैं उनकी आशीषों को उन पर लाने के लिए परवाह करता हूं। उनकी हर जरूरत को पूरी करने और उन्हें प्रेम से सेवा करने के लिए मुझे समर्थ करें। मुझे अपनी बुद्धि से भरें जिससे कि मैं अपने परिवार के लिए उचित निर्णयों को ले सकूं। यीशु के नाम में, मैं प्रार्थना करता हूं, आमीन!

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000