Loading...
Dr. Paul Dhinakaran

भरपूर भलाई !

Dr. Paul Dhinakaran
02 Aug
आज भी प्रभु आपको मगन करेगा और आपकी देखभाल करेगा और आपको सब भले कार्यों से भरेगा। वह कहता है, ‘‘मैं तुम्हें शांति दिए जाता हूं, अपनी शांति तुम्हें देता हूं; जैसे संसार देता है, मैं तुम्हें नहीं देता: तुम्हारा मन व्याकुल न हो और न डरे।’’ (यूहन्ना 14:27) परमेश्वर चाहता है कि आप हर समय शांति से भरे रहें। तभी तो प्रभु अपने चेलों को हर बार मिलता रहा और उन्हें निश्चित कराता रहा कि वह उन्हें अपनी शांति देगा। आज आप आनन्द से भर जाएं और दिन के अंतिम समय तक परमेश्वर की भरपूर भलाई से भर जाएं। इस वजह से प्रभु हर समय आपके साथ रहता है। एक बार जब यीशु पहाड पर से नीचे उतर आया, एक बडी भीड उसके पीछे हो ली। उस भीड में एक कोढी था और वह यीशु के पास आया। उसने उसके सामने अपने घुटने झुकाए और प्रभु से कहा यदि वह चाहता है कि उसे चंगा करे। (मत्ती 8:1,2) 

उन दिनों में, एक कोढी को एक अलग स्थान में रख दिया जाता है और उसे दूर एकांत जगह में रहने के लिए छोड दिया जाता था। उन्हें अकेले ही रहना पडता था। उन्हें अपने परिवार को छोडकर दूर रहने के लिए भेज दिया जाता था। हमारे समय में, जो लोग कोरोना से प्रभावित हैं उन्हें उनके परिवार वालों से अलग और दूर रहना और संक्रमित होना पड रहा है। वे अपने परिवार से अलग होकर अस्पतालों में अकेले रहना पड रहा है। यदि कोई मर जाता है तो उसके शरीर को जला दिया जाता है और जलाने के लिए उनके परिवार को नहीं दिया जाता है। कई देशों में, बडी तादाद में उन्हें दफ्नाया गया है। एक ही गड्डे में सौ से भी अधिक दबा दिया गया है। यह संकट के दिन हैं। कोढी भी इसी सामान्य स्थिति में था। यदि कोई भी उस कोढी के पास से गुजरता तो उन्हें अशुद्ध, अशुद्ध और मैं अशुद्ध हूं, चिल्लाकर उस रास्ते से निकल जाना पडता था। उस दिन यह व्यवस्था लागू थी।
आज शायद आप ऐसी दुखदायी परिस्थिति से गुजर रहे हैं। शायद आपका मन अंदर से कहता होगा, तुम अशुद्ध हो। आप शायद लज्जित और नकारे गए हैं। आप शायद कह रहे हैं कि मेरे पास मत आओ, मैं शापित हूं। इस परिस्थिति में केवल एक कोढी यीशु को उसकी कृपादृष्टि को खोजता हुआ आया। आप जानते हैं कि क्या हुआ? जब उसने जोर से पुकारा, ‘‘हे प्रभु यदि तू चाहे तो मुझे शुद्ध कर सकता है।’’ प्रभु ने उसकी प्रार्थना सुनी और उसे स्पर्श किया जो हर समय घृणा का अनुभव करता था और उसे चंगा किया। (मत्ती 8:3) जब व्यवस्था ने कोढियों को छूना अशुद्ध ठहराया तो प्रभु ने हमारे विरुद्ध उन विधियों के लेख को अपने सामर्थ से रद्द करके दिखाया। (कुलुस्सियों 2:15) और उसे स्पर्श किया। इससे प्रभु की करुणा दिखती है। ‘‘..मेरी प्रजा मेरे उत्तम दानों से संतुष्ट होगी।’’ (यिर्मयाह 31:14) प्रभु अब तक नहीं बदला है और वह आज भी चाहता है कि वह अपने हाथों को आपकी ओर बढाकर आपको आशीष दे। आज आप आनन्द से भर जाएं और दिन के अंतिम समय तक परमेश्वर की भरपूर भलाई से भर जाएं।
Prayer:
प्रेमी प्रभु, 

मेरे जीवन में इन वचनों को दृढ करें । मैं आपकी भलाई को संतुष्टि की मात्रा में अनुभव करूं। आप अपने हाथों को मुझ पर रखें और मुझे शुद्ध करें। मुझे पवित्र करें। मुझे चंगा करें। मुझे छुटकारा दें। मेरे परिवार और समाज के अपने प्रियजनों से मुझे आशीषित और शांतिपूर्ण जीवन बिताने में मेरी मदद करें। मुझे एक नया जीवन दें। यीशु के मधुर नाम में, मैं प्रार्थना करता हूं, आमीन!

For Prayer Help (24x7) - 044 45 999 000