Loading...
Stella dhinakaran

प्रभु में बने रहो

Sis. Stella Dhinakaran
15 Dec
प्रेरित पौलुस इफिसियों की कलीसिया को तीमुथिमुस को इस पत्र के द्वारा लिखना चाहता था। यह पत्र उसने लोगों की प्रोत्साहन के लिए लिखा जिससे कि वह उन्हें निश्चित करे कि परिस्थितियों में वे बलवंत बने रहें। “जब हम परमेश्वर की आज्ञाओं से चलते हैं,वह हम में बना रहता है,इसी से हम जानते हैं कि हम उसमें बने रहते हैं क्योंकि उसने अपने आत्मा हमें दिया है।”(1 यूहन्ना 4:13) 

इस प्रकार का ईश्वरीय जीवन मसीह जीवन में उत्तम कहलाता है। यीशु अपने लिए कह रहा था, “मैं और पिता एक हैं।” (यूहन्ना 10:30) “जैसे डाली दाखलता में बनी रहती है उसी तरह आपको भी प्रभु में बना रहना है।” (यूहन्ना 15:5) क्या आपने इस दिव्य जीवन की महानता को पाया है, क्या आप इसे पाने की इच्छा रखते हैं? वह जो प्रभु की संगति में रहता है वह उसके साथ एक आत्मा हो जाता है। (1 कुरिन्थियों 6:17) इसलिए क्या मसीह जो महिमा की आशा है, आपके अंदर है (कुलुस्सियों 1:27) उसके चरणों में बैठकर इसके बारे में सोचते रहें। 

मेरा प्रारम्भिक जीवन बहुत ही साधारण था। जब मैं जवान थी मेरी मां मेरे कार्यों के लिए मुझे बहुत ही डांटती थी। परन्तु प्रभु अपने प्रेम के द्वारा मेरे जीवन में खोजता हुआ ठीक समय पर आया जब मुझ में कमियां थी। उसने मेरी आत्मिक आंखें खोल दी। मुझ में से अंधकार दूर हो गया और यीशु की ज्योति मुझ में चमकने लगी। (2 कुरिन्थियों 4:6) प्रभु आया और मुझ में वास करने लगा और मुझ में चलने फिरने लगा और मैं उसकी बेटी बन गई (2 कुरिन्थियों 6:16-18) मेरी मां ने मेरे अंदर परिवर्तन को देखा तो वह बहुत ही खुश हो गई। उसके बाद मैं ने अपने भक्त पति के जीवन  को देखा, मैं ने बाइबल पढना शुरू किया और प्रार्थना करने लगी। इससे मैं पवित्र आत्मा से भरने लगी और मैं ने प्रभु में बने रहने की दिव्य आशीष पाई,वह मुझ में और मैं उसमें और मैं ने अपने पति के साथ प्रभु की सेवा करने का एक आशिषित और आनन्दपूर्वक जीवन पाया। आज, मेरी वृद्धावस्था में भी मैं प्रभु में बनने रहने का दिव्य जीवन और वह मुझ में बने रहने का आनंद उठा रही हूं। 
जीवन का वचन

क्या आज आप अपने जीवन को प्रभु के हाथों में सौंपेंगे जिससे कि आपके जीवन की सारी कमियां पूरी तरह से बदलकर उसमें और वह आप में बने रहे। जब आप खुद को प्रभु के हाथों में सौपेंगे तब आप उसके साथ एक मन में रहेंगे और एक भक्ति के जीवन की अगुवाई करेंगे। 
Prayer:
आशीषित पिता,मैं आप में बना/बनी रहूं का एक महान जीवन दें और आपको भाता हुआ जीवन जीऊं। मैं अपना जीवन पूरी तरह से आपके चरणों में रखता/रखती हूं। मुझे अपनी पवित्र आत्मा से भरें जिससे कि मैं आपके पवित्र लहू से शुद्ध हो जाऊं। मुझ पर कृपादृष्टि रखें कि मैं आपके साथ सदा बनी रहूं और मुझे कृपादृष्टि दें कि मैं आप में सदा बनी रहूं। 

यीशु के नाम में, मैं प्रार्थना करता/करती हूं। आमीन।          

1800 425 7755 / 044-33 999 000