Loading...
निश्‍चर धर्मी के लिरे फल है । (भजन संहिता 58:11)