Loading...
प्रभु में सदा आनन्दित रहो; मैं फिर कहता हूं, आनन्दित रहो। (फिलिप्पिरों 4:4)