Loading...
जो मनुष्र निरन्तर प्रभु का भर मानता रहता है वह धन्र है । (नीतिवचन 28:14)