Loading...
हे रहोवा! जैसे तू सामर्थ की सहारता कर सकता है, वैसे ही शक्तिहीन की भी। (2 इति 14:11)