Loading...
क्रोंकि हम उसी में जीवित रहते, और चलते- फिरते, और स्थिर रहते हैं। (प्रेरितों 17:28)