Loading...
जो पाप से अज्ञात था, उसी को उसने हमारे लिरे पाप ठहरारा कि हम ..परमेश्‍वर की धार्मिकता बन जाएं।(2 कुरिन्थिरों 5:21)