Loading...
क्योंकि तू मेरा शरणस्थान है, और शत्रु से बचने के लिये ऊंचा गढ है। (भजन संहिता 61:3)