Loading...
परन्तु मैं उसी की ओर दृष्टि करूंगा जो दीन और खेदित मन का हो और मेरा वचन सुनकर थरथराता हो। (रशाराह 66:2)