Loading...
Evangeline Paul Dhinakaran

धीरज से प्रतिक्षा करें!

Sis. Evangeline Paul Dhinakaran
16 Apr
मसीह में अतिप्रिय, 

हमें कुछ जरूरतों के लिए इंतजार करना होता है और इसके लिए परमेश्‍वर हमें धीरज देता है। उस समय परमेश्‍वर हमें अपनी उपस्थिति में पवित्र आनन्द लेने के लिए अपनी कृपा प्रदान करता है। ऐसाी प्रतिक्षा करना मुश्किल है। कईं लोग उनकी आवश्यकताएँ पूरी नहीं होने पर निराश हो जाते हैं। कुछ लोग ऐसे हैं जो सोचते हैं कि उनका जीवन समाप्त हो गया है और वे आत्महत्या करने के लिए तैयार हो जाते हैं। आइए हम उपवास रखकर प्रभु के चरणों में बाट जोहें। 
ऐसे अनेक लोग है जो यीशु को आमने सामने देखने और अपनी प्रार्थनाओं को उत्तर पाने और उनसे आशीषों को प्राप्त करने हेतु प्रार्थना भवन से संपर्क करते हैं और वे जो कुछ भी विश्‍वास के साथ परमेश्‍वर से मांगते है वह उनको प्रदान करता है। जैसा कि बाइबल में लिखा है क्योंकि जहाँ दो या तीन मेरे नाम पर इक्ट्टा होते हैं, वहाँ मैं उनके बीच में होता हॅूं। (मत्ती 18:20) 

परमेश्‍वर उन प्रार्थनाओं को उत्तर देता है जो दो जन एक मन से प्रार्थना भवनों में आयोजित आशीष सभाओं में मांगते हैं। जब हम यीशु के नाम का उच्चारण करते हैं, तब वह हमें उत्तर देता है। हाँ, वह आपकी प्रार्थनाओं का भी उत्तर देगा। इसलिए निराश मत होइए। वह अपने नियुक्त समय पर सब कुछ बनाता है। (सभोपदेशक 3:11)
बाइबल में हम पढ़ते हैं, ‘‘फिर वह सूर और सैदा के देशों से निकलकर दिकापुलिस से होता हुआ गलील की झील पर पहुँचा। तो लोगों ने एक बहिरे को जो हक्ला भी था, उसके पास लाकर उससे विनती की कि अपना हाथ उस पर रखे। तब वह उसको भीड़ से अलग ले गया, और अपनी उंगलियाँ उसके कानों में डालीं और थूककर उसकी जीभ को छुआ और स्वर्ग की ओर देखकर आह भरी और उसके कहा, ‘‘इफ्फतह’’ अर्थात ‘‘खुल जा’’! उसके कान खुल गए और उसकी जीभ की गाँठ भी खुल गई और वह साफ-साफ बोलने लगा। तब उसने उन्हें चिताया कि किसी से न कहना; परन्तु जितना उसने उन्हें चिताचा उतना ही वे और प्रचार करने लगे। वे बहुत ही आश्‍चर्य में होकर कहने लगे, उसने जो कुछ किया सब अच्छा किया है;  वह बहिरों को सुनने की और गॅूंगो को बोलने की शक्ति देता है।’’ 
हाँ वह आपकी भी सुनेगा और आपको ऊँचा करेगा। वह आपको एक नए तरीके से इस्तेमाल करेगा और आप और आपके परिवार पर सभी आशीषों को रखेगा। आप उठकर परमेश्‍वर के राज्य को बनाएंगे। मैं धीरज से यहोवा की बाट जोहता रहा; और उसने मेरी ओर झुककर मेरी दोहाई सुनी। (भजन संहिता 40ः1) इसी तरत तब आप अपनी समस्याओं और आँसुओं से छुटकारा पाने के लिए धीरज के साथ परमेश्‍वर की बाट जोहेंगे तब वह आपको उत्तर देगा और आपको छुटकारा प्रदान करेगा। निराश मत होवें और निरंतर प्रार्थना करें। परमेश्‍वर आपके आँसु भरी प्रार्थनाओं का एक आशीषित जवाब देगा। 
Prayer:
स्वर्गीय पिता, 

मैं अपने जीवन में कईं समस्याओं के कारण निराश हो चुका हूँ। मुझे आपकी बाट जोहने हेतु आपकी कृपा प्रदान कर। मेरी आँसू भरी प्रार्थनाओं को सुनकर उसका उत्तर प्रदान कर और मुझे आपकी उपस्थिति में पवित्र आनन्द लेने में मेरी मदद कर। मुझे जीवन में ऊँचा उठा और मुझे हर तरह से आशीषित करे। मैं सारी महिमा और स्तुति आपको देता/देती हूँ। यीशु के अतुल्य नाम में, मैं यह प्रार्थना करता/करती हूँ। 

आमीन!

1800 425 7755 / 044-33 999 000