Loading...
Stella dhinakaran

महिमा से पहले नम्रता आती है

Sis. Stella Dhinakaran
16 Apr
‘‘आज के दिन से मैं सब इस्राएलियों के सम्मुख तेरी प्रशंसा करना आरम्भ करूंगा  जिससे वे जान लें कि जैसे मैं मूसा के संग रहता था वैसे ही मैं तेरे संग भी हूं।’’ (यहोशू 3:7) यह तो परमेश्वर के द्वारा यहोशू को दी गई अद्भुत प्रतिज्ञा है। । यहोशू ने परमेश्वर की दृष्टि में एक नैतिकता का जीवन बिताया। वह मूसा के साथ खडा रहा और प्रभु जो उससे करवाना चाहता था उसे पूरा करने में मदद की। तभी तो यहोशू ने नीतिवचन 28:20 के अनुसार ‘‘सच्चे मनुष्य पर बहुत आशीर्वाद होते रहते हैं परन्तु जो धनी होने में उतावली करता है, वह निर्दोष नहीं ठहरता।’’ उसी तरह से व्यवस्थाविवरण 28:1 कहता है, ‘‘यदि तू अपने परमेश्वर यहोवा की सब आज्ञाएं, जो मैं आज तुझे सुनाता हूं, चौकसी से पूरी करने को चित्त लगाकर उसकी सुने, तो वह तुझे पृथ्वी की सब जातियों में श्रेष्ठ करेगा।’’
 
एक नौजवान जो मसीह से प्रेम करता था वह अपने कार्यस्थल में धर्मी और ईमानदार था। उसे मसीह के गुण थे। उसके काम में समर्पणता और कठिन परिश्रम के गुणों को देखकर उसका उच्च अधिकारी उसे हमेशा अपमानित किया करता था। उसी कार्यस्थल में उस नौजवान ने उच्च पद के लिए एक परीक्षा लिखी और उसे अपनी युवावस्था में एक उच्च पद की पदोन्नति मिली। परन्तु जो उच्च अधिकारी था जो उसके लिए दुष्टता करता था उसे उस दफ्तर में कुछ भी नहीं मिला।
हां, परमेश्वर के मेरे प्रिय बच्चों, यहोवा के भय मानने से शिक्षा प्राप्त होती है,और महिमा से पहले नम्रता आती है। (नीतिवचन 15:33) इस लिए हम प्रभु का भय मानते हैं और उसकी आज्ञाओं को मानते हुए उसकी दृष्टि में एक धर्मी और सच्चाई का जीवन बिताते हैं, हम भी ये आशीषें निश्चय रूप से पा सकते हैं। यह बहुत जरूरी है कि परमेश्वर के वचन को पढें और उसकी आज्ञाओं को जानें और उन्हें मानें। हमें भी उसकी बाट जोहनी चाहिए कि हमें भी मार्गदर्शन मिले। जब हम ऐसा करते हैं परमेश्वर हमें सारी जातियों के बीच प्रशंसा दिलाएगा।यदि हम प्रतिदिन उसे चखेंगे तो हम उसके उपकारों का आनन्द उठा सकेंगे।
Prayer:
प्रेमी परमेश्वर, आप वो प्रभु हैं जो हमारे साथ होते हैं और अपनी आशीष को बहुतायत से उण्डेलते हैं। हे प्रभु, मुझे अपना मार्ग दिखा कि मैं उस में चलूं और आपकी आशीष को विरासत में पाऊं। यहोशू के समान मुझे भी एक धर्मी और ईमानदारी का जीवन व्यतीत करने में मेरी अगुवाई करें। मैं खुद को आपके पराक्रमी हाथों में सौंपता/सौंपती हूं, यीशु के नाम में आमीन!

1800 425 7755 / 044-33 999 000