Loading...
Dr. Paul Dhinakaran

परमेश्वर आपकी पुकार सुनते है

Dr. Paul Dhinakaran
11 Oct
व्यवस्थाविवरण की पुस्तक को "दूसरे नियम" के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इसके लेखक मूसा ने इसमे फिर से परमेश्वर की 10 आज्ञाओ का और उन नियमों और क़ानूनों का उल्लेख किया है जो इसराइलियों पर लागू होती है। जितनी सतर्कता से हम उनके नियमों का पालन करते है उतनी ही अधिक आशीषे हमारे जीवन मे उंड़ेली जाती है। परमेश्वर अपनी संतानों की पुकार सुनते है वे उनके दुख के समय मे उन्हे उत्तर देते है क्योंकि वे उनसे प्रेम करते है।

कारुणया यूनिवर्सिटी के एक भूतपूर्व छात्रा को विवाह के 14 वर्षो बाद भी संतान सुख प्राप्त नही हुआ था। वे पीड़ा मे प्रभु के सामने रोती थी। उनकी पहली संतान मृत पैदा हुई थी और दूसरी संतान की मृत्यु गर्भ मे ही हो गई थी। स्थिति और बदतर हो गई जब एक व्यक्ति ने उनके लिए प्रार्थना की और कहा, "आपने कोई भयानक पाप किया है और इसलिए आप हर बार अपनी संतान खो रही है। आपकी कोई संतान नही होगी।" यह सुनकर वह अंदर से टूट गयी। उनको समझ नही आ रहा था की क्या करे, उन्होने प्रभु से आँसुओ के साथ प्रार्थना की और कहा "प्रभु, क्या मेरे लिए कोई प्रार्थना करनेवाला नही है? कृपया किसी को मेरे लिए प्रार्थना करने के लिए भेजिए। उस समय मुझे उस बहन से संपर्क करने की तीव्र इच्छा हुई। इसलिए मैने उन्हे कॉल किया और मैने कहा, "मैं भाई पॉल दिनाकरण बोल रहा हूँ, प्रभु ने बड़े बोझ के साथ आपके लिए प्रार्थना करने के लिए प्रेरित किया है।" जैसे ही मैने यह कहा वह बहन फूट-फूट कर रोने लगी और उन्होने अपना बोझ मेरे साथ बाँटा और उन्होने यह निवेदन किया की मैं उनके लिए प्रार्थना करूँ। उनकी बुरी अवस्था के बारे मे जानकर मैं भी प्रभु को आँसुओ के साथ पुकारने लगा। मैने उनके लिए प्रार्थना की।  अद्भुत! प्रभु ने 14 वर्षो से संतानहीन बहन को सुंदर संतान की आशीष दी।
जीवन का वचन

यह प्रभु की भलाई है। परमेश्वर आपका या आपकी प्रार्थनाओ का कभी  तिरस्कार नही करेंगे। वे आपके आँसुओ को देखते है। क्या आप लंबे समय से दुख झेल रहे है? परमेश्वर आपकी घटी को हटा कर आपके हृदय की इच्छाओं को पूरा करेंगे। आप जैसे है वैसे ही परमेश्वर आप से प्रेम करते है। निरंतर उनपर भरोसा रखिए और उनके वचनों पर विश्वास कीजिए और वे आपके लिए महान कार्य करेंगे। इसलिए आनंदित हो जाइए!
Prayer:
प्यारे पिता, इस गवाही के द्वारा मुझे प्रोत्साहित करने के लिए मैं आपका धन्यवाद करता/ करती हूँ। सचमुच अभी भी आशा है; इन शब्दों ने मेरे विश्वास को बल दिया है। आप आज, कल और युगानुयुग एक समान है। मैं विश्वास करता/ करती हूँ की आप मेरे जीवन मे महान काम करेंगे ।

यीशु मसीह के नाम से मैं यह प्रार्थना माँगता/ माँगती हूँ। आमीन।

1800 425 7755 / 044-33 999 000