Loading...
Paul Dhinakaran

धन्यवादित हृदय!

Dr. Paul Dhinakaran
13 Jul
एक सुन्दर सा गीत इस प्रकार है, ‘‘बरकत गिनो...बरकत गिनो देखो रब के काम...और हैरान तुम होंगे देखकर रब के काम’’। यह परमेश्वर के प्रति धन्यवाद को दर्शाता है। जब आप एक क्षण के लिए रूककर परमेश्वर की आशीषों की सूची को गिनते हैं, उनकी भलाईयों को याद करते हैं, तब आप कभी परमेश्वर को धन्यवाद देना बन्द नहीं कर सकते। आभार एवं धन्यवाद के हृदय से भलाईयाँ प्रकट होती है। 

एक आयकर अधिकारी एक मसीही के घर गया और उनसे पूछा उन सारी वस्तुओं की सूची बताये जो उनके पास है ताकि वह उन पर कर लगा सकें। वह मसीही जन इस प्रकार से बोलना आरम्भ किया, मेरे पास आनन्दित हृदय है। अधिकारी ने उन्हें जारी रखने को कहा, इस पर उसने इस प्रकार से जवाब दिया, ‘‘मेरे पास प्रभु का भय रखने वाली आज्ञाकारी पत्नी है, जो मेरा ध्यान रखती है एवं मुझे परमेश्वर के मार्ग के मार्ग की ओर ले जाती है’’। इस पर अधिकारी ने पूछा, क्या आपने किसी बात को न बताया हो? मसीही ने इस प्रकार से उत्तर दिया, ‘‘मेरे पास परमेश्वर में चलने वाले बच्चे भी है’’। इसे सुनकर अधिकारी ने किताब बन्द कर लिया और अपनी जांच को यह कहकर बंद किया, ‘‘आपके पास धन की बहुतायत है परन्तु इस पर कर नहीं लगाया जा सकता’’। 
जीवन का वचनः सचमुच कोई ऐसा तराजू नहीं कि प्रभु की आशीषों को माप सके और न ही इस पर कर लगाया जा सके। आप परमेश्वर द्वारा पाये गये सारी आशीषों की सूची बनाकर उन्हें धन्यवाद देना शुरू कर दें। जिस प्रकार बाइबिल हमें स्मरण कराती है, ‘‘धन्यवाद बलि को चढ़ाने और उससे प्रार्थना करना’’। (भजन संहिता 116:17) इसलिए कभी परमेश्वर के उस महान् कार्यों को न भूले जो उसने आपके लिया किया है। वह आपको देखता है और आपको नियमित रूप से आशीष देगा और आपको सुरक्षित रखेगा। 
Prayer:
प्रार्थनाः
प्रेमी स्वर्गीय पिता, मैं उन अपार आशीषों के लिए आपका धन्यवाद करता/करती हूँ, जो मैंने आपसे पाया है। अपनी आशीषों के साथ दूसरों को आशीष देने में मेरी मदद कर। मेरे अन्दर सदा आपके प्रति आभार और धन्यवाद का हृदय दें। यीशु के नाम से मैं इस प्रार्थना को मांगता/मांगती हूँ। आमीन्!

1800 425 7755 / 044-33 999 000