Loading...
Dr. Paul Dhinakaran

परमेश्वर हमारा शरणस्थान है!

Dr. Paul Dhinakaran
08 Jan
बाइबल के अनुसार दुष्ट कौन है? कई वचन हैं जिस में हम एक व्यक्ति को दुष्ट के रूप में पहचानने में हमारी मदद करते हैं। जैसे 2 तीमुथियुस 3:2 के अनुसार जो हमें बताता है कि दुष्ट लोगों के गुण कैसे होते हैं, स्वार्थी, लोभी,डींगमार,अभिमानी,निंदक,माता पिता की आज्ञा को टालनेवाले,कृतघ्न,अपवित्र हैं परन्तु इन दो भजन संहिता के वचनों से दुष्ट अहंकारी और अभिमानी होता है। (भजन संहिता 10:2-11) उनकी उपस्थिति हमारी कोई हानि नहीं करेगी जैसे कि परमेश्वर की प्रतिज्ञा हमें सुरक्षित रखने और उन्हें पूरी रीति से नष्ट करने की है। 

जैसे कि लिखा है यहोवा भला है,संकट के दिन में वह दृढ गढ ठहरता है, और अपने शरणागतों की सुधि रखता है।(नहूम 1:7)जैसे ही आप प्रभु में विश्वास रखेंगे आप दिव्य सुरक्षा का आनन्द उठाएंगे। एक जादूगर था उस ने परमेश्वर के सेवक को सडकों पर सुसमाचार का प्रचार करते हुए देखा और वह क्रोधित हो उठा। इसलिए उस ने मित्रों के साथ एक सांप को परमेश्वर के उस सेवक पर फैंका। वहां पर जो लोग इकट्ठे थे,वे सांप को देखकर भाग खडे हुए। परन्तु पासवान को उस पर गुस्सा नहीं आया। उसके बजाए उस ने प्रार्थना की कि वह जादूगर उद्धार की रोशनी में आए। दिन बितते गए। एक दिन एक नौजवान इस जादूगर के पास आया और उसे रू 500/- देकर एक लडकी के विरुद्ध जादू टोना करने को कहा। वास्तव में जब इस जादूगर ने मंत्रों को कहना शुरु किया,तब यीशु प्रगट हुए और उससे कहा, यह मेरी बच्ची है, तुम उसके विरुद्ध कुछ भी नहीं करोगे। परमेश्वर को देखकर वह जादूगर बहुत अचम्भा हुआ। उस ने यीशु पर विश्वास किया और वह एक नई सृष्टि बन गया। अब वह हर जगह सुसमाचार का प्रचार करता है। 
जीवन का वचन

क्या ही यह एक अद्भुत परिवर्तन है! एक व्यक्ति अंधकार में था, और अंधकार की शक्तियों को नियंत्रित करता था,जैसे ही वह यीशु से मिला उसका जीवन बदल गया। जब आप, लोगों के चारों ओर प्राकृतिक विपत्तियां,बीमारी और अंधकार की शक्तियों को देखते हैं, तो समस्याओं के बीच परमेश्वर की जो सुरक्षा होती है वह नि:संदेह एक महान आशीष है। मसीह आपके जीवन से दुष्टता के सताव को हटा देगा और आपको स्वतंत्र करेगा। आप दिव्य आशीष और दिव्य सुरक्षा का आनन्द उठाएंगे। आप पर सुरक्षा का घेराव होने के कारण लोग यीशु की ओर आकृषित होंगे। सुरक्षित रहें और आशीषित रहें!
Prayer:
स्वर्गीय प्रेमी पिता, हर समय आपके अद्भुत सुरक्षा के कारण मैं आपको धन्यवाद देता/देती हूं। आपका नाम मेरे लिए एक शरणस्थान है। मैं विश्वास करता/करती हूं कि आपकी दिव्य सुरक्षा रहे जिससे कि आपकी ओर कई आत्माएं खींची चली आएं। वे उद्धार की रोशनी में आएं। 

यीशु के नाम में,मैं प्रार्थना करता/करती हूं,आमीन!

1800 425 7755 / 044-33 999 000