Loading...
Dr. Paul Dhinakaran

दिव्य शांति और आनन्द

Dr. Paul Dhinakaran
12 Jan
हर एक व्यक्ति अपने जीवन में कठिन परिस्थितियों से गुजरता है और जब वह प्रभु पर भरोसा रखता है यह जानकर की प्रभु ही उन परिस्थितियों पर जयवंत होने के लिए अनुग्रह देता है,तब परमेश्वर उसे जयवंत से बढकर बनाता है। उसके बाद दिव्य शांति और आनन्द आता है जिसे संसार प्राप्त करने का प्यासा होता है परन्तु वह क्षणभंगूर और नष्ट होनेवाली चीजों को प्राप्त करने की कोशिश करता हैं। इन दिनों लोग अपने अपने जीवनों में निराश हैं और कुछ लोग मानसिक रूप से प्रभावित हो जाते हैं क्योंक़ि वे अपने घनिष्ठ मित्रों के द्वारा निंदित किए जाते हैं। आप अपने जीवन में यह भी देखते होंगे कि सब से विश्वासयोग्य व्यक्ति आपकी पीठ के पीछे छूरा घोंपते हैं। हां,ये ऐसे दिन हैं जब हर एक पूछेगा कि किस पर भरोसा रखें?

एक छोटा लडका था जो खेल रहा था और अचानक एक सूखे और अंधेरे कुएं में गिर पडा। उस ने मदद के लिए पुकारा। गांव वालों ने उसकी आवाज सुनी और एक रस्सी नीचे भेजी और उससे कहा कि रस्सी को पकडकर ऊपर आ जाए। परन्तु उस लडके ने कहा, “श्रीमान! क्या मेरा पिता रस्सी की दूसरी छोर पकडे हुए हैं? मैं केवल तभी चढूंगा जब मेरे पिता जी रस्सी की दूसरी छोर पकडेंगे। मैं केवल उन्हीं पर भरोसा रखता हूं”। वे तुरंत उसके पिता को खोजकर आए और पिता जी ने अपने बेटे को यह कहकर पुकारा, “हे बेटे, मैं रस्सी की दूसरी तरफ हूं उसे पकड लो और मैं इसे ऊपर खिंचूंगा।” वह लडका शांति और आनन्द से भर गया। उस ने रस्सी को सकती से पकड लिया और कुएं से बाहर निकल आया। 
जीवन का वचन

क्या ही अद्भुत इस छोटे लडके का अपने पिता पर कितना भरोसा था! वह दूसरों के बल पर विश्वास नहीं रखता था,परन्तु जब उस ने अपने पिता की आवाज सुनी तो उसने अपने मन में कहा होगा, ‘मेरा पिता निश्चय मुझे नीचे नहीं गिराएगा।’ इस प्रकार के विश्वास को, यीशु पर रखें। वह आपको कभी भी नीचे गिरने नहीं देगा। सारी समस्याओं के बीच में भी आप उस पर पूरी तरह से भरोसा रखें। वह आपको हर समस्या से बाहर निकालेगा। वह आपको अपनी पवित्र आत्मा से भरेगा और अपने स्वरूप में बदलेगा। इसके अलावा आप परमेश्वर के द्वारा दी गई शांति और आनन्द का अनुभव करेंगे जैसे कि यीशु ने कहा, ‘‘मैं तुम्हें शांति दिए जाता हूं, अपनी शांति तुम्हें देता हूं’’(यूहन्ना 14:27) किसी भी बात के लिए चिंता मत करें,आप केवल प्रभु पर भरोसा रखें और उसके दिव्य अनुग्रह का आनन्द उठाएं।
Prayer:
स्वर्गीय प्रेमी पिता,मैं आप पर पूरा भरोसा रखता/रखती हूं। मैं समस्याओं के गड्डे से आपको पुकारता/पुकारती हूं। मुझे मेरी सभी समस्याओं से छुटकारा दें। मैं भरोसा करता/करती हूं कि आप मुझे कभी नीचा नहीं होने देंगे। मेरी मदद करें कि मैं आनन्द और शांति के दिन देखूं। 

यीशु के नाम में,मैं प्रार्थना करता/करती हूं,आमीन!

1800 425 7755 / 044-33 999 000